Tag Archives: मीड

सुरा या मीड (Mead)

शहद से बनी मदिरा को सुरा या मीड (Mead) कहते हैं। क्योंकि शहद सम्भवत: मानव को ज्ञात प्रथम संतृप्त शर्करा स्रोत था अतः सुरा भी मानव द्वारा बनायी गयी सम्भवतः प्रथम मदिरा थी। ॠगवेद से लेकर प्राचीन यूनानी सभ्यताओं में इसका उल्लेख मिलता है। जहाँ प्राचीन काल में लगभग सभी सभ्यताओं में यह बहुत प्रचलित थी वहीं आज इसका चलन बहुत ही कम केवल नाम मात्र को रह गया है। इसका एक कारण शहद की प्रचुर मात्रा में अनुपलब्धता भी है। आज अधिकतर लोग इसे घर में ही बनाते हैं जोकि अपेक्षाकृत काफी सरल भी है। इसे बनाने के लिये शहद को पानी में घोलकर इसका किण्वन कराते हैं और अक्सर स्वाद वृद्धि के लिये इसमें मसाले और कुछ फल मिलाये जाते हैं। यह एक प्रकार की वाइन ही है जिसमें एल्कॉहल 10 से 18 प्रतिशत तक हो सकता है।

घर पर सुरा बनाने की विधि

आवश्यक सामग्री: शहद (2 कप), मीड यीस्ट (1 चम्मच), शुद्ध जल (8 कप), नींबू (2 नींबू का रस), स्वादानुसार मसाले (अदरक, लौंग, इलाइची, दालचीनी, जायफल आदि)

सर्वप्रथम मीड या वाइन यीस्ट को 1/4 कप शहद, 1 कप शुद्ध जल और 2 नींबू के रस के मिश्रण में अच्छी तरह से मिलाकर किसी बड़े मुँह के जार में 24 घंटे के लिये छोड़ दें। जार को बन्द न करें केवल किसी साफ कपड़े से ढक दें। ऐसा करने से यीस्ट ऑक्सीजन की उपस्थिति में अपनी जनसंख्या बढ़ाता है और नींबू का रस अम्लीय वातावरण बनाता है ताकि अन्य बैक्टीरिया न पनप सकें। अगले दिन शेष शहद और पानी को मिलाकर उबालें और अच्छी तरह से मिलने दें। ऊपर आये झाग को हटाते रहें इसमें शहद में उपस्थित वैक्स होता है। जब यह मिश्रण बिल्कुल साफ हो जाय इसे ठंडा होने दें। अब इसमें यीस्ट का मिश्रण और स्वादानुसार मसाले मिलाकर किण्वन के लिये विशिष्ट वाइन कारबॉय में रख दें। इस जार में ऐसी व्यवस्था होती है कि किण्वन के समय बनने वाली कार्बन डाई ऑक्साइड गैस तो इससे बाहर निकलती रहती है परन्तु बाहर की ऑक्सीजन अन्दर नहीं जा पाती। ऑक्सीजन की उपस्थिति में यीस्ट एल्कॉहल नहीं बनाता है। 2 से 3 माह में किण्वन पूरा हो जाता है।

विस्तार में जानकारी के इस लिंक पर जायें।

5 टिप्पणियाँ

Filed under मदिराओं के प्रकार