Category Archives: ड्रिंकवेयर

मदिरा पान में प्रयुक्त होने वाले पात्रों से सम्बन्धित जानकारी

मदिरापान के पात्र: भाग 3

अभी तक हमने बियर पीने के गिलासों और तने वाले गिलासों के बारे में जाना। इस पोस्ट में हम मदिरापान के शेष अन्य प्रमुख पात्रों के बारे में जानेंगे।

शॉट ग्लास (Shot glass): यह एक बहुत छोटा गिलास है जिसका आयतन 50-60 मिली होता है। इसका प्रयोग एक घूंट में शीघ्रता से पिये जाने वाली मदिराओं जैसे टेक़ीला आदि को पीने में होता है।

शॉट ग्लास

शॉट ग्लास

ओल्ड फ़ैशन्ड ग्लास (Old-Fashioned glass): इसे लोबॉल ग्लास (lowball glass), व्हिस्की ग्लास (Whisky Glass), रॉक्स ग्लास (rocks glass) या शॉर्ट टम्बलर (short tumbler) भी कहते हैं। इसका आयतन 250-300 मिली और आधार प्रायः मोटा और सपाट होता है। इसका प्रयोग बर्फ़ पर अर्थात ऑन द रॉक्स (on the rocks) व्हिस्की और अन्य स्प्रिट पीने में किया जाता है। इसके अलावा इनका प्रयोग बहुत से कॉकटेल परोसने में भी होता है।

व्हिस्की ग्लास

व्हिस्की ग्लास

हाईबॉल ग्लास (Highball glass): यह एक लम्बा गिलास है जिसका आयतन 250-350 मिली होता है। मुख्यतः यह कॉकटेल परोसने में प्रयुक्त होता है।

हाईबॉल ग्लास

हाईबॉल ग्लास

कॉलिंस ग्लास (Collins glass): यह हाईबॉल ग्लास की अपेक्षा पतला और लम्बा गिलास है जिसका आयतन भी 250-350 मिली होता है। इसे भी कॉकटेल परोसने में प्रयोग करते हैं।

कॉलिंस ग्लास, ब्लैक वेल्वेट कॉकटेल के साथ

कॉलिंस ग्लास, ब्लैक वेल्वेट कॉकटेल के साथ

इसके अतिरिक्त अन्य बहुत से आकार के गिलास मदिरापान में प्रयुक्त होते हैं परन्तु ये सभी मूल रूप से अभी तक बताये किसी न किसी गिलास का ही परिवर्तित रूप होते हैं।

Advertisements

टिप्पणी करे

Filed under ड्रिंकवेयर

मदिरापान के पात्र: भाग 2 (स्टेमवेयर)

पिछली पोस्ट में हमने बियर पीने में प्रयुक्त होने वाले गिलासों के बारे में जाना। आइये इस पोस्ट में स्टेमवेयर या तने वाले गिलासों के बारे में जानते हैं। इन गिलासों की धारण क्षमता प्रायः 150 से 300 मिली तक होती है। गिलास का मुँह अपेक्षाकृत छोटा होता है इस कारण मदिरा की सुगन्ध एकत्रित होकर अधिक आती है। इनके तने का मुख्य उद्देश्य यह है कि गिलास को उसके तने से पकड़ा जाय ताकि न तो मदिरा का तापमान प्रभावित हो और न ही ऊपर के प्याले वाले भाग में उँगलियों के दाग़ लगें जिससे मदिरा का रंग प्रभावित हो। इन गिलासों में अक्सर महँगी मदिरा जैसे वाइन, शेम्पेन, स्कॉच, ब्रांडी और कोनयाक इत्यादि और कॉकटेल पिया जाता है। आकार और आयतन के आधार पर इनके कई प्रकार हो सकते है और इनका नामकरण प्रायः इसमें पी जाने वाली प्राथमिक मदिरा के अनुसार होता है।

वाइन ग्लास (wine glass): वाइन ग्लास सबसे अधिक प्रचलित स्टेमवेयर है। वाइन के प्रकार के आधार पर इसमें कुछ विविधता होती है। नीचे दिये गये चित्र में रेड वाइन, व्हाइट वाइन और शेरी ग्लास (Sherry glass) प्रदर्शित हैं।

रेड वाइन, व्हाइट वाइन और शेरी ग्लास

रेड वाइन, व्हाइट वाइन और शेरी ग्लास

शेम्पेन फ्लूट (Champagne flute): इसमें एक लम्बा तना और पतला प्याला होता है। इसे भी तने से पकड़ा जाता है ताकि मदिरा का तापमान प्रभावित न हो।

शेम्पेन फ्लूट

शेम्पेन फ्लूट

शेम्पेन कूप (Champagne coupe): शेम्पेन कूप या शेम्पेन सॉसर भी एक लम्बे तने वाला शेम्पेन ग्लास है यद्यपि अब यह प्रायः कॉकटेल के लिये ही प्रयोग में आता है। इसके बारे में यह मिथक प्रचलित है कि इसका साँचा 18 वीं सदी की फ्रांसीसी रानियों (मेरी एंट्वनेट, ज़ोज़ेफ़ीन डा बोआरने, मडाम डा पॉम्पाडोर आदि) के स्तनों से ढालकर बनाया गया था। निश्चय ही यह सत्य से काफ़ी दूर है।

शेम्पेन कूप

शेम्पेन कूप

ब्रांडी स्निफ़्टर (Brandy snifter): इसका आयतन लगभग 180 से 250 मिली तक होता है पर एक बार में 100 मिली से कम ही लिया (दिया) जाता है। इसका मुँह और तना अपेक्षाकृत छोटे होते है जिससे के हाथ की गर्मी से ब्रांडी का वाष्पन हो और उसकी सुगन्ध का अनुभव आसानी से किया जा सके।

ब्रांडी स्निफ़्टर

ब्रांडी स्निफ़्टर

ट्यूलिप ग्लास (Tulip glass): इस गिलास का प्याला ट्यूलिप के पत्ते के आकार का होता है। इसका आयतन अपेक्षाकृत अधिक (250-400 मिली) होता है। इसका प्रयोग कुछ सुगन्धित एल बीयर, स्कॉच और कोनयाक पीने में किया जाता है।

ट्यूलिप ग्लास

ट्यूलिप ग्लास

मार्टीनी ग्लास (Martini glass): इसे कॉकटेल ग्लास भी कहते हैं। इसका ऊपर का प्याला शंक्वाकार होता है जिसका ऊर्ध्वकोण लगभग 90o होता है। इसका प्रयोग मार्टीनी[1] और अन्य कॉकटेल परोसने में किया जाता है।

मार्टीनी या कॉकटेल ग्लास

मार्टीनी या कॉकटेल ग्लास

मार्गरीटा ग्लास (Margarita glass): यह शेम्पेन कूप का ही एक रूपान्तरण है जो मार्गरीटा[2] परोसने में प्रयुक्त होता है।

मार्गरीटा ग्लास

मार्गरीटा ग्लास

अगली पोस्ट में हम बचे हुये कुछ और गिलासों के बारे में जानेंगे।

__________

[1] मार्टीनी; वोडका/जिन, वर्मूथ और जैतून से बनाया जाने वाला एक प्रसिद्ध कॉकटेल है।
[2] मार्गरीटा; टेक़ीला, नींबू और सन्तरे के स्वाद वाले लिकूर (liqueur) ट्रिपल सेक (Triple sec) से बनाया जाने वाला कॉकटेल है।

टिप्पणी करे

Filed under ड्रिंकवेयर

मदिरा पान के पात्र (Drinkware): भाग 1

जिस प्रकार से हम चाय, कॉफ़ी, लस्सी, मिल्क शेक, शर्बत इत्यादि पीने के लिये अलग अलग प्रकार के गिलास या कप प्रयोग में लाते हैं उसी प्रकार से अलग अलग प्रकार की मदिरा पान हेतु भी अलग अलग प्रकार के गिलास, कप या बाउल प्रयोग में आते हैं। प्रायः किसी विशेष प्रकार की मदिरा के लिये किसी विशेष प्रकार के गिलास को चुनने के पीछे कोई वैज्ञानिक कारण होता है, परन्तु कई बार ये कारण सामाजिक और सांस्कृतिक भी होते हैं। सामान्यतः सभी प्रकार की मदिरा पारदर्शी गिलासों में पी जाती है जिससे कि मदिरा के रंग को आसानी से देखा और पहचाना जा सके। इसी कारण से प्रायः इन गिलासों पर किसी भी प्रकार की नक्काशी से बचा जाता है और सदैव सादा काँच ही प्रयोग में लाया जाता है। इन्ही गिलासों का एक वर्ग, जिसमें मदिरा को थामने वाला भाग आधार से एक तने से जुड़ा होता है, स्टेमवेयर या तने वाला गिलास कहलाता है।  इनके बारे में हम अगली पोस्ट में पढ़ेंगे। आइये इस पोस्ट में कुछ विशिष्ट प्रकार के गिलासों के बारे में जानते हैं जो कि बियर पीने के लिये प्रयुक्त होते हैं।

बियर स्टाइन (Beer stein): यह अपने नाम के अनुसार बियर पीने के लिये प्रयुक्त होने वाला मग के आकार का पात्र है। बियर प्रायः अधिक मात्रा में पी जाने वाली मदिरा है इसलिये बियर स्टाइन की क्षमता एक पाइन्ट या पिन्ट (pint) अर्थात लगभग आधा लीटर के आसपास होती है।

बियर स्टाइन या बियर मग

बियर स्टाइन या बियर मग

व्हीट बियर ग्लास (Wheat Beer Glass): यह बियर पीने का एक लम्बा गिलास है जो मूलतः गेहूँ से बनी बियर के लिये प्रयुक्त होता था। इसकी क्षमता भी 500 मि.ली. या उससे अधिक होती है। इसे वीज़ेनबीयर (Weizenbier, जर्मन गेहूँ से बनी बियर) ग्लास भी कहते हैं।

व्हीट बियर ग्लास

व्हीट बियर ग्लास

पाइन्ट ग्लास (Pint Glass): यह सामान्य सा दिखने वाला शंक्वाकार गिलास है। नामानुसार इसकी क्षमता एक पाइन्ट (या पिन्ट, लगभग आधा लीटर) होती है।

पाइन्ट ग्लास

पाइन्ट ग्लास

बियर बूट (Beer Boot): यह बूट के आकार का गिलास होता है। इसके बारे में यह कहानी प्रचलित है कि किसी लड़ाई में जनरल ने अपने सैनिकों से यह वादा किया था कि यदि वे इसमें विजयी हुये तो वह अपने बूट में बियर भर के पियेगा। जीतने के बाद उसने इससे बचने के लिये बूट के आकार का ही एक गिलास बनवाया और उसमें बियर पी। इस गिलास का प्रयोग अक्सर त्योहारों और उत्सवों (जर्मनी, ऑस्ट्रिया, स्विट्ज़रलैंड आदि देशों में) में और आयोजित बियर पान प्रतियोगिताओं में होता है।

बियर बूट ग्लास

बियर बूट ग्लास

यार्ड ग्लास (Yard Glass): यह भी एक विशेष प्रकार का एक गज (Yard) लम्बा गिलास है जो बियर पान प्रतियोगिताओं में अक्सर प्रयुक्त होता है।

यार्ड ग्लास

यार्ड ग्लास

अगली पोस्ट में हम स्टेम्वेयर या तने वाले गिलासों के बारे में पता करेंगे।

1 टिप्पणी

Filed under ड्रिंकवेयर