बियर की गुणवत्ता के मात्रक

वाइन और आसवित मदिरा (या लिकर) के स्वाद और सुगंध के आंकलन की जटिल विधि के विपरीत बियर गुणवत्ता मुख्यतः उसके रंग और स्वाद में कड़वेपन को नापकर निर्धारित की जाती है। बियर के रंग का आंकलन एक प्रकार के स्पेक्ट्रोमीटर से किया जाता है और इसे स्टैंडर्ड रेफरेन्स मेथड (Standard Reference Method/ SRM), यूरोपियन ब्र्यूवरी कन्वेन्शन (European Brewery Convention/ EBC) या डिग्री लॉविबॉन्ड (Degrees Lovibond/ o L) में नापते हैं। जबकि स्वाद का आंकलन बियर के कड़वेपन के निर्धारण से होता है, जिसे इंटरनेशनल बिटरनेस यूनिट (International Bitterness Unit/ IBU) में नापते हैं।

स्टैंडर्ड रेफरेन्स मेथड (Standard Reference Method/ SRM):
यह स्पेक्ट्रोफोटोमीटर के प्रयोग से बियर के रंग के वस्तुनिष्ठ निर्धारण की विधि है। इसमें बियर को एक आधा इंच के पारदर्शी कप में रख कर उससे 430 नैनोमीटर तरंग दैर्ध्य का गहरा नीला प्रकाश उस पर डालते हैं और प्रकाश के अवशोषण को नापते हैं। 430 नैनोमीटर का प्रकाश बियर के रंगों में भिन्नता दर्शाने के लिये सबसे उपयुक्त होता है। बियर का रंग डिग्री एस आर एम ( o SRM) में नापने के लिये निम्नलिखित फार्मूला प्रयोग करते हैं –

o SRM = – 10. log10(I/Io)

जहाँ Io आपतित प्रकाश की तीव्रता तथा I संचरित प्रकाश की तीव्रता है। अर्थात किसी रंगहीन द्रव जिससे पूरा प्रकाश संचरित हो जाता है, के लिये I = Io, अतः o SRM = 0 (क्योंकि log10 1 = 0)। इसी प्रकार पूर्णतया अपारदर्शी द्रव के लिये I = 0 अतः o SRM = अनन्त (क्योंकि log10 0 = – अनन्त)। यदि 20% प्रकाश संचरित होता है तो I/Io= 0.2 और o SRM = 7। o SRM को निकटतम पूर्णांक में ही प्रदर्शित करते हैं। सामान्यतः बियर का o SRM 2 से 70 तक होता है।

इंटरनेशनल बिटरनेस यूनिट (International Bitterness Unit/ IBU):
IBU पैमाने का प्रयोग बियर के कड़वेपन के आंकलन में किया जाता है जिसे स्पेक्ट्रोफोटोमीटर और सॉल्वेंट एक्सट्रैक्शन विधि से नापते हैं। बियर में कड़वापन उसमे उपस्थित हॉप्स (Hops) के कारण होता है जिसे बियर में उपस्थित माल्ट के स्वाद को सन्तुलित करने के लिये मिलाया जाता है। हॉप्स में एल्फ़ा एसिड (Alpha acids) की मात्रा यह निर्धारित करती है कि वास्तव में हॉप्स का कितना स्वाद (कड़वापन) बियर में स्थानान्तरित होता है। अतः बियर का IBU निर्धारित करने के लिये बियर उत्पादक निम्नलिखित फार्मूला प्रयोग करते हैं –

IBU = Wh × AA% × Uaa ⁄ ( Vw × 1.34 )

जहाँ Wh हॉप्स की मात्रा (आउन्स में), AA% हॉप्स में उपस्थित एल्फ़ा एसिड का प्रतिशत, Uaa प्रयुक्त एल्फ़ा एसिड का प्रतिशत और Vw बियर के मातृ द्रव का कुल आयतन (गैलन में) है। सामान्यतः बियर का IBU 5 से 100 तक होता है।

अधिकतर बियर उत्पादक इस सूचना को अपने तक ही सीमित रखते है और अपने ब्राँड में नियमितता लाने हेतु प्रयोग करते हैं।

Advertisements

3 टिप्पणियाँ

Filed under बियर

3 responses to “बियर की गुणवत्ता के मात्रक

  1. फरवरी के बाद अब आयी है आपकी पोस्ट।
    हमें तो इंतज़ार रहता है आपकी पोस्ट का।

  2. पाबला जी सही कह रहे हैं। हम भी नियमित ग्राहक हैं आपके।
    वैसे क्या बिटरनेस यूनिट भी लिखी जाती है पैक पर?

  3. किसी भारतीय बियर पर तो मैने नहीं देखा IBU लिखते हुये पर हाल ही में मैने टेक्सास स्टेट की एक स्थानीय बियर “शाइनर बॉक” पर यह सूचना देखी थी। उसके बाद ही मुझे इसके बारे में जानने की जिज्ञासा हुई। बहुत सी बियर की वेबसाइट पर भी इसके बारे में दिया होता है।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s