स्कॉच व्हिस्की (Scotch Whisky)

पिछली पोस्ट में हमने जाना कि व्हिस्की अनाजों से बनाई जाती है तथा माल्ट और ग्रेन दो प्रकार की होती है। स्कॉच, आयरिश, केनेडियन और अमेरिकन व्हिस्की विश्व की प्रमुख व्हिस्कियाँ हैं। इस पोस्ट में हम स्कॉच व्हिस्की के बारे और जानकारी प्राप्त करेंगे और इनकी विशेषताओं को जानेंगे।

स्कॉटलैंड में पूर्णतया निर्मित व्हिस्की को स्कॉच व्हिस्की या सिर्फ स्कॉच कहते हैं। स्कॉटलैंड को व्हिस्की उत्पादन के हिसाब से पाँच भागों में बाँटा जा सकता है-

स्पेसाइड (Speyside): उत्तरी स्कॉटलैंड में स्पे नदी के आसपास के इलाक़े को स्पेसाइड कहते हैं। यहाँ सर्वाधिक मद्यनिष्कर्षशालाऐं हैं जिनमें से ग्लेनफ़िडिक[1](Glenfiddich), ग्लेनलिवेट (Glenlivet), बालवीनी (Balvenie), स्पेबर्न (Speyburn), अबर्लोर (Aberlour) और मैकालन (Macallan) प्रमुख हैं।

हाईलैंड (Highland): इस इलाके की प्रमुख मद्यनिष्कर्षशालाऐं हैं डालमोर (Dalmore), डालव्हीनी (Dalwhinnie), ग्लेनमोरेंगी (Glenmorangie), ओबन (Oban), बालब्लेयर (Balblair)। इसके अलावा अनेक द्वीप (आइले को छोड़कर) भी इसी इलाके में गिने जाते हैं। इन द्वीपों के नाम पर ही यहाँ की मद्यनिष्कर्षशालाऐं हैं – अरान (Arran), आइल ऑफ़ जुरा (Isle of Jura), हाइलैंड पार्क (Highland Park), टालिस्कर (Talisker), टॉबरमरी (Tobermory)  और स्कापा (Scapa)।

लोलैंड (Lowland): यहाँ अब केवल तीन मद्यनिष्कर्षशालाऐं ही सक्रिय हैं – ग्लेनकिंची (Glenkinchie), ब्लैडनॉक (Bladnoch) और ऑकेन्टोशन (Auchentoshan)।

आइले (Isle): यहाँ पर आज आठ सक्रिय मद्यनिष्कर्षशालाऐं हैं – बाउमोर (Bowmore), लैफ्रोएग (Laphroaig), लैगावुलिन (Lagavulin)।

कैम्पबेलटाउन (Campbeltown): एक समय पर यहाँ 30 से अधिक मद्यनिष्कर्षशालाऐं थीं परन्तु अब उनमें से तीन ही सक्रिय हैं – ग्लेनगाइल (Glengyle), ग्लेन स्कॉटिया (Glen Scotia) और स्प्रिंगबैंक (Springbank)।

सिंगल माल्ट स्कॉच व्हिस्की प्रायः मद्यनिष्कर्षशाला के नाम पर ही होती है जबकि ब्लेंडेड व्हिस्की मास्टर ब्लेंडर की कम्पनी के नाम पर होती है। मास्टर ब्लेंडर उस आदमी को कहते हैं जिसने सर्वप्रथम कई मद्यनिष्कर्षशालाओं से अलग अलग प्रकार की व्हिस्की लेकर उन्हें मिलाने के बाद एक अनूठी व्हिस्की को जन्म दिया। व्हिस्की पर अंकित वर्ष उसमें मिलाई गयी सबसे नयी व्हिस्की की उम्र बताता है अर्थात 12 वर्ष पुरानी ब्लेंडेड व्हिस्की में केवल 12 वर्ष या उससे अधिक पुरानी व्हिस्की ही मिली होगी।

सिंगल माल्ट स्कॉच

सिंगल माल्ट स्कॉच

ब्लेंडेड स्कॉच

ब्लेंडेड स्कॉच

__________

[1] ग्लेन का अर्थ होता है दो पहाड़ियों के बीच किसी नदी की घाटी। अतः जिस भी मद्यनिष्कर्षशाला के नाम में ग्लेन आता है वह ऐसी ही किसी घाटी में स्थित होती है। उदाहरण के लिये ग्लेनफ़िडिक नामक मद्यनिष्कर्षशाला फ़िडिक नदी की घाटी में स्थित है।

Advertisements

5 टिप्पणियाँ

Filed under मदिराओं के प्रकार, व्हिस्की

5 responses to “स्कॉच व्हिस्की (Scotch Whisky)

  1. बहुत बेहतरीन जानकारी!!

  2. बहुत बेहतरीन जानकारी!!

  3. चिट्ठाचर्चा के माध्यम से यहाँ तक पहुँचा।
    अच्छी जानकारियाँ हैं।
    लिखते रहिये

  4. Waow loved reading this post. I submitted your feed to my blogreader.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s